मैं

Posted: February 25, 2014 by Ankur in Hindi Write-ups, Writes...
Tags: ,

मैं आज भी घर से माँ के पांव छूकर निकलता हु…
मैं आज भी माँ की बनाई सब्जी पड़ोसी के घर छोर जाता हूँ…..

मैं आज भी घर से निकलते वक़्त
चाभियाँ पड़ोसी के घर छोर जाता हूँ….
मैं आज भी रास्ते में चलते वक़्त किसी को
साइकिल पर छोर देता हूँ……
किसी को जरुरत पड़ी अगर तो
उसकी मदद भी कर देते हैं…….

ऐसा कहकर मै अपनी बड़ाई नहीं कर रहा हूँ
मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूँ क्यूंकि
मैं शहर में नहीं
बल्कि भारत के एक गाँव में रहता हूँ……!!

Rajat Ranjan

NIFT Bhubaneswar

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s