तन्हा हूँ मैं

Posted: May 4, 2014 by Ankur in Contest, Writes...
Tags: , , , , ,

Contestएक अँधेरी गली ,
गली में जलता बुझता एक चिराग़।
सुनसान राह , हवाओं का शोर।
एक तरफ हवाओं में घुली तुम्हारी खुशबू।
दूसरी ओर बेवफ़ाई का धुंआ।
धुएं में घुटता मैं।
एक यादों का शोर , एक एहसास।
एक विश्वास ,तुम्हारे लौट आने का।
यकीं है मुझे अभी भी।
तुम पर, अपने प्यार पर।
तन्हा-तन्हा सा हूँ मैं।
वक़्त है अभी भी , थाम लो मुझे।
इस धुएं में घुट जाऊँगा।
मैं तन्हां था , तन्हा हूँ ,और.………
तन्हा ही मर जाऊँगा। ………….

सत्यशील प्रकाश

KIIT University

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s