Dhundh Do Na Mujhe

Posted: June 20, 2014 by CampusWriting in Contest, Writes...
Tags: , , , ,

ये क्या हो रहा है मुझको,,
क्या खबर भी है तुझको….???

रोता हूँ मगर आँसू गिरते नहीं….
हँसता हूँ मगर होठों पे हँसी सजते नहीं…???

कहाँ गयी वो मेरी खिलखिलाहट,
वो कोमल सी मेरी रूमानियत….??
कहाँ गयी वो मेरी हिम्मत..
वो हमेशा साथ रहने वाली नम्रत…??
कहाँ गयी वो मेरी बातें…
वो शांत सुन्दर रातें…
कहाँ गयी वो मेरी अपनी मुस्कराहट…
वो मेरी अपनी हिचकिचाहट….
करते है सब खुसफुसाहट….
कि बदल गया है रजत……
मगर क्या कभी
किसी ने मेरे नजदीक आकर
थोरा सा प्यार दिखलाकर..
थोरा मेरे माथे को सहलाकर.. 
थोरा मेरे कपोलो को छूकर…
थोरा प्यार से पूछा की क्यों………..?????

क्या यही सिला होता है सबसे प्यार करने का
सबसे खिलखिला के बात करने का???

अब तो साली मौत भी मुझसे रूठ गयी है..
क्यों मैं खुद को संभाल नहीं पा रहा हूँ..
क्यों मैं सभी को डाट दे रहा हूँ…
क्या मैं ऐसा ही था या अब हो रहा हूँ….
कोई बताओ मुझे….. कोई तो समझो मुझे और समझाओ मुझे…
मेरी आँखों का प्यार लौटाओ मुझे….
मेरी बातों की मिठास लौटाओ मुझे
उस रजत को लौटाओ ना मुझे….

मैंने खो दिया है खुद को… मुझे ढूंढ दो न कोई….
मुझे ढूंढ दो न कोई….
मैं खो दूंगा वरना अपना अस्तित्व…. ढूंढ दो न मुझे…..

Rajat Ranjan

NIFT Bhubaneswar

rajatr81@gmail.com

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s