ये आज क्या हुआ ?

Posted: August 7, 2014 by Ankur in Contest, Hindi Write-ups, Writes...
Tags: , , ,

एक रोज जो ‘जिंदगी’ ने दी थी गवाही, मेरे ख्वाब के सच होने की
आज जब पहुचा ‘अदालत –ऐ-जिंदगी’ मे तो , बयान से मुकरने लगी ।

सोचा था जो… ये हवाए , परवाज़ देंगी मुझे ‘मंजिल की दिशा’ मे
आज जो उड़ान भरी तो , अपना रुख बदलने लगी ।

गुमान था…. जिस ‘दोस्ती’ पर ,कहते थे यार जिनको
आज जब मुश्किलों से सामना हुआ तो , दोस्ती दगा देने लगी ।

कहती थी… जो ‘रात’ मुझसे ,मेरे ख्वाबों को सहेजेगी
आज जब ख्वाब पूरा होने को हुआ तो , सुबह को बुलाने लगी ।

सँजोये रखा था… जिस ‘दर्द’ को , के लिखेंगे कभी ‘मरहम की स्याही’ मे डुबोकर
आज जब ‘विशाल’ लिखने बैठा तो , स्याही सूखने लगी ……..

Vishal Maurya

Zakir Husain Delhi College, DU

inspartec@gmail.com

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s