Posts Tagged ‘Reflections’

Khamoshi

Posted: July 10, 2013 by CampusWriting in Writes...
Tags: , ,

Ye khamoshi ek ahsas h…
n jaane q dhoondta hu wo, jo dil ke paas h..
samjhta q nhi bhala, ise pratyaksha me..
kaisa shor dabaye baitha h dil ke naksh me..

aaj uthh n paya to kabhi n uthh paunga..
khud hi khud me roj jalta jaunga….
sochta hun aaj ise duniya ke pare kr dun..
logon ke beech ise ek tah de dun..
par na jane q peechhe hat jata hun
khud ko samne pane se mai dar jata hun.
janta hun ye ahsas khone n dega mujhe..
logon ke beech kabhi sone dega n mujhe..

to socha phir ise ek manjil de dun..
samandar ki gahraiyon me ise ek shakl de dun..
pahchan pane pr khud ko chhipa n payega ye..
raat me bhatakte jugunu sa timtimata pakda jayega ye..

phir us nayi subah ke intajaar me …
apni khamoshi bhool jayega ye..
manjil ki mahak ko pakar..
usi ke peeche bhanwara sa mandarayega ye….

Alok Maurya

meetgates@hotmail.com

Advertisements

Solemn Notes

Posted: June 26, 2013 by CampusWriting in Writes...
Tags: , ,

 “And when I look back, I wonder why, you let it all slip awaaaay, yeaaa …” rest of the words faded away, giving way to the shrilling notes of the guitar solo that  followed.  And instantly, he became oblivious to everything else. His aching eardrums, the furious sun and that long and lonely road all slipped into ignorance in that moment when he had ears and consciousness solely for the intricate and impossibly fast string of high, shrieking notes which he simultaneously played in his mind on his imaginary electric guitar. He felt the familiar surge of pulse when the notes flowed in a crescendo to reach that peak when the music almost seemed alive to him. He was almost rushing by the time he reached his home, eager to pick up his guitar and recreate the addictive magic that he was listening to on his way back home.

It was then that like always, the spell seemed to vanish. When he placed his sore fingertips over the strings of his guitar and experienced that sudden stab of pain he knew would hit him. After all, he was yet a rookie, his finger-tips were still too soft and his control still too clumsy to manage a progression of barre chords or a solo like the ones he himself worshipped. As he started practising the progression, fumbling over the chords and feeling his hand muscles begin to ache, he started thinking. He thought about the little he had learnt and the enormous lessons he had yet to begin. But he kept practising and began to feel bit more in rhythm every time he played the progression.

Thus went his evening, the way it did most of the time now, practising with his guitar, playing chords and notes. He made progress of course, his strumming became more uniform, his transitions between chords more smooth. But these little milestones were separated by long paths of monotonous practise. Perhaps they were not so long as he thought; you need to have some degree of patience. But how could he be patient? How could he possibly be with that malignant tumour in his … No, he would not think about it. He could not think about it. Because every time he did, all he could feel was utter desperation and fear. Fear that his hand might stop strumming sooner than he wanted it to. Fear that he may die with his desire to play those lightning fast solos still unfulfilled. From the outside he might have looked like a hero, racing against time to be like the rock stars he worshipped. Ignoring the inevitable halt his cancer would put on his existence. But he did not feel heroic at all. His body was failing him, his illness was eating into his physical and emotional strength. There were days when his fumbling fingers gave way to furious desperation. When he could not play as well as he would have liked to. Doctors had given him maximum 5 months. Too small a time for his impossible dreams. But he dared not believe that. Why did he feel so compelled to learn, he could not tell. It was not even a compulsion that he felt. Rather, it was something really vital to him. Ironical as it was, he was afraid of failure like one would be afraid of death. So he practised, to play better, and faster.

His illness, his fast approaching end and his desperation slowly drew him crazy. And that craziness aided him. On the slightest hint of progress made, his imagination soared right up to its limits and in that moment, he was confident of his ability to reach there, when his fingers would be dancing on the fret-board of his guitar, the amplifiers wailing out a harsh melody. So complete was his imagination that he would pour out more and more vigour from his withering body and not even notice the effort that he had to make. All he could feel was that familiar surge of pulse when he bended and released frantically on a high note. His practises intensified to the extent of a trance sort of state when he would lose memory of time, hunger or sleep. His crazed mind pushed him to practise harder, the resulting pace of progress feeding more and more hopes to his madness.

His fingers grew faster and bolder, playing with such speed and accuracy that he could not help but laugh out in delight. His madness had paid off. All that mattered at that moment was the solo of November rain he played. Not his cancer, not even the frightening skeleton he was reduced to, all that mattered was the long, wailing note that he played, the moaning of amplifier as he released the note, the life he had given to his music. The melancholy notes saddened him so much more than his own state. It did not even matter when his knees failed him and he slipped to the floor, for he had played to his satisfaction. Even his failing consciousness could not scare him. And the last thing he could feel were the lyrics, “nothing lasts forever, even cold November rain.” And everything faded into darkness. 

Akash Singh


 

“तुम और तुम्हारी कहानियां..उफ़..सुबह हो चली है, अब तो उठ जाओ”, रोज़ अपनी बेगम की यही आवाज़ कानों में भर कर करीम साहब अपने कागज़ और कलम का साथ छोड़ते थे| कहानियां लिखने का उन्हें बहुत शौक था| पलंग से सटे मेज़ पर अपनी डायरी और कलम हमेशा तैयार रखते थे| जैसे लोग चोर-डाकू से बचने के लिए अपने सिरहाने हथियार रखते हों,वैसे ही वो अपने कागज़ कलम से कभी जुदा नहीं होते थे| बेगम अगर कभी हटा कर, कहीं सलीके से रख देतीं, तो कहते,” रुक्सार, जब तक मैं कागज़ खोजने जाऊंगा, तुम्हारी खूबसूरती पर लिखा शेर नाराज़ हो गया तो? ख्मखां उसे मनाने में ४ कागज़ और लगेंगे|”
करीम साहेब की अदा ही अलग थी, पेशे से स्कूल मास्टर,शौक से शायर, २ खूबसूरत बच्चों के वालिद और रुक्सार बेगम के दिल के मालिक| लक्ष्मीगढ़ नाम के छोटे से कसबे में जहाँ वो रहते थे,वो सभी को और सभी उन्हें जानते थे| पैसों की बहार ना सही पर ख्यालों और ख़्वाबों की झड़ियाँ ज़िन्दगी सजाती थीं|

जिस तरह लोग मेहनत से कमाई पाई-पाई जुटा कर तिजोरी में महफूज़ रखते हैं, उसी तरह करीम मियां हर इक ख़याल को लिख कर, जोड़ कर, कहानियों और कविताओं में पिरो कर अपनी डायरी में अमर कर दिया करते थे| हुनर की उनमें कमी नहीं थी|उनके चर्चे इस छोटे कसबे के बाहर भी खूब थे,पर परिवार से अलग रहना उन्हें गवारा नहीं था, इसलिए शहर से आये रोज़गार की जाने कितनी पेशकश उन्होंने ठुकरा दी थीं| कहते थे,”यहाँ मेरी रुक्सार की बिखरती-सवरती जुल्फों की खुशबू जो बसी है, मेरे बच्चों की हँसी है इन हवाओं में,इन्हें कैसे छोड़ जाऊं?”
वक़्त यूँ ही बीतता गया और वक़्त के जलते दिए के तले आर्थिक तंगी की कालिक बढ़ती रही| एक बेटा विदेश जाकर बस चुका था, दूसरे ने कसबे में ही रेलवे की नौकरी कर ली थी, दोनों की शादी भी हो चुकी थी, करीम साहब को अब किसी बात की फ़िक्र नहीं थी,उन्होंने अपने और रुक्सार के लिए कुछ पैसे और ढेर सारा प्यार संजो कर रखा था|ज़िन्दगी हँसी ख़ुशी कट रही थी कि छोटे बेटे ने जिद्द पकड़ ली, और पढाई करने बम्बई जाना चाहता था| गरम मिजाज़ का तो वो पहले ही था,अपने माता-पिता और बड़े भाई के मौलिकता के गुण भी उसमें कम ही आये थे|खुद्दार कम, खुदगर्ज़ ज्यादा था| पर था तो घर का लाड़ला, जो चाहता वो हाज़िर मिलता था|अब जिस दौड़ में उसका बड़ा भाई इतना आगे निकल गया था, वो भी उसी रस्ते जाना चाहता था| छोटे कसबे की छोटी नौकरी, मामूली तनख्वा और ग़ैरदिलचस्प बीवी का साथ अब उसे नहीं लुभा पा रहा था| पिता से जब पैसों की बात छेड़ी तो वे कुछ सखते में आ गए| अपनी ज़िन्दगी में इस पड़ाव के लिए वो तैयार नहीं थे| पर पेशे से मास्टर थे,पढाई के महत्त्व को जानते थे| तुरंत तैयार हो गए कुछ जुगाड़ करने के लिए| पहले सोचा बड़े बेटे से मदद ले ली जाये पर उसूल जो कुछ ज्यादा ही सख्त थे, इसकी इजाज़त नहीं दे रहे थे|अब एक ही रास्ता नज़र आ रहा था| गाँव की पुरानी ज़मीन बेच दी जाय| बेटे से फॉर्म भर के तयारी रखने को कहा और बरसों में पहली बार अकेले अपने गाँव की और जाने को निकल पड़े जहाँ पुश्तैनी ज़मीन और एक पुराना मकान खड़ा था| रुक्सार कुछ परेशान हुईं, उन्हें ये सब अचानक अच नहीं लग रहा था, पर जाने से रोकती भी कैसे, बेटे और बहु के आने वाले कल का सवाल था| तो करीम मियां चल पड़े,रुक्सार से ये वादा लेकर कि जब लौटेंगे तो उसी चौखट पर आँखों में वही कशिश लिए, माथे पर चमकती लाल बिंदी सजाये,वो उनका स्वागत करेंगी|पर मुश्किलें तो अभी और भी थीं| गाँव पहुचे तो खरीददार खोजने में और जब कोई मिला तो कोर्ट-कचेहरी के चक्कर लगाने में| उसूल कुछ ज्यादा गंभीर थे, तो वकीलों के तलवे चाटने का ख्याल भी गवारा नहीं था| पर बेटे को पैसों की जल्दी थी| इन्ही दिनों में दो ख़त आ चुके थे| किसी तरह जल्दी से सौदा किया, मनी-आर्डर भेजा और खुद वहीँ रुक गए, जब तक सौदे के कागज़ तैयार ना हुए|ये अकेलेपन का वक़्त बड़ी ही धीमी रफ़्तार से गुज़र रहा था| कोर्ट-कचहेरी के चक्कर,पैसों का लेन-देन, हर वो चीज़ जो उन्हें नापसंद थी, इस उम्र में उन्हें निभानी पड़ रही थी| और उस पर घर की याद| अब जब मनी आर्डर पहुच चुका था, बेटे के ख़त आने भी बंद हो गए थे| बीच में खबर आई थी की रुक्सार की तबियत कुछ खराब हो चली थी, पर फ़िर इस मसले
पर कोई बात-चीत नहीं हुई, इससे करीम और भी बेचैन हो रहे थे| जैसे ही सब काम ख़तम हुआ, गाँव को अलविदा कहा और वापस चल पड़े अपने घर की ओर, अपने परिवार के पास| जब बस से उतरे और लक्ष्मीगढ़ का साईनबोर्ड दिखा, ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी! घर की ओर चल पड़े| रुक्सार का वादा याद आया तो कदम कुछ और तेज़ बढ़ने लगे| पर जब घर पहुंचे, तो सब कुछ बदला बदला सा था, चौखट पे ना रुक्सार थीं, ना घर में शाम की दिया-बत्ती हुई थी| बहु के शर्मीले क़दमों की आहट भी नहीं सुनाई देती थी| मकड़ी के जालों की तरह मन को घेरते बुरे ख्यालों को हटाते हुए वो अन्दर गए तो घर खाली था| जहाँ कभी खुशियाँ झूमती थीं, वहां अचानक मनहूसियत छा गई थी| डर के मारे करीम घर से बाहर भागे, पडोसी के दरवाज़ा खुलवाया तो जो पता चला उससे उनकी दुनिया बदल गई| उनके जाने के बाद रुक्सार की तबियत बिगडती ही गई, हकीम-वैद सब को दिखाया, पर कुछ सुधार नहीं हुआ| एक बदकिस्मत रात वो करीम का नाम लबों पे लिए इस दुनिया को अलविदा कह गयीं| और बेटा-बहु उन्हें किसी अनजान कब्र में उनकी यादों के साथ रुखसत कर चले गए हमेशा-हमेशा के लिए| जिन शब्दों से वो खेला करते थे,उनमें तकलीफ देने की इतनी ताकत थी, ये करीम ने आज जाना था|उस दिन के बाद कभी किसी ने मास्टर जी को स्कूल जाते नहीं देखा|
……………….
समंदर की लहरों की तरह,आने-जाने की हरकत में मसरूफ, वक़्त बीतता गया| आज लक्ष्मीगढ़ और आस-पास के कस्बों में एक कहानी मशहूर है| एक पागल बूढा इंसान कब्रिस्तानों के फेरे किया करता है, हर अनजान कब्र पर जा फूल बिछाता है, वहीँ घंटों बैठ प्यार भरी नज्में गाता है|राह चलते लोगों को रोक रोक कर एक हसीन औरत की खूबसूरती की कहानियां बयान करता है और कभी उसकी बिंदी के लश्करे पर, तो कभी आवाज़ की मिठास की तारीफों में घंटों ग़ुम रहता है| कभी कभी वो फूलों के साथ चूड़ियाँ और बिंदियाँ भी लाता है| कुछ चिट्ठियां लिख उन्ही कब्रों के पासछोड़ देता है और फ़िर आगे बढ़ जाता है|किसी और अनजान कब्र की तरफ| कहीं और मायूसी से भरे कब्रों के जंगल में फूलों के रंग सजाने|
…………………
कभी नींद में खोयी हुई रुक्सार ने धीमी आवाज़ में करीम से कहा था,”तुम मेरी कब्र पर चिट्ठियां छोड़ जाया करना, मैं उनका जवाब तुम्हारे ख़्वाबों में आकर दिया करुँगी|”

-ऐश्वर्या तिवारी

in collaboration with Srijan; BITS Pilani, Goa

 

 

 

 

Out On a Midnight Stroll

Posted: June 14, 2012 by sarupbanskota in Writes...
Tags:

Creepy avenues,

Lined by creaking trees,

Swooping down-

Make you jump outta your skin

A rustle here,

A crackle there,

You know you’re not wanted!

Yet you go ahead…

A single yellow lamp lights thy way,

Thou can hear nothing,

but thy footsteps

Your heart beats faster,

You can feel it thumping

Your delicate skin

Yet you go ahead…

You see shadows lurking up your heels,

You wonder who that could be,

You muster up courage…

A sudden gust of wind,

Spooky black images do a jig against a wall-

the shadows perform a masquerade!

Your heart in your mouth,

Yet you go ahead…

Cz you’re “Out On A Midnight Stroll”!

Veda Vyass

Amrita University